Jazak Allahu Khair Ka Meaning - जज़ाकअल्लाहू खैर का जवाब हिन्दी में

Jazak Allahu Khair Ka Meaning Aur Jajakallahu khair ka Jawab in hindi | जज़ाकअल्लाहू खैर का मतलब क्या है? इसका जवाब देने का तरीका हिन्दी में जानिए

Jazak Allahu Khair Ka Meaning - जज़ाकअल्लाहू खैर का जवाब कैसे दें
Jazak Allahu Khair Ka Meaning - जज़ाकअल्लाहू खैर का जवाब कैसे दें

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम

 Jazak Allahu Khair ka Meaning

जज़ाक जो लफ्ज़ है वो "ज़ज़ा" लफ्ज़ से निकला है । जो कि मशहूर अरबी-अंग्रेजी डिक्शनरी अल मवरीद में मौजूद है । जिसका 2 मतलब है और वो बिल्कुल उसके उलटा है ।


जज़ा लफ्ज़ का मतलब क्या है ?

जज़ा लफ्ज़ के दो अलग-अलग मतलब हो सकते हैं — (1) सवाब (2) सजा । यही वजह है कि जब कोई शख्स सिर्फ 'जज़ाकअल्लाह' कहता है तो इसके दो मतलब हो सकते हैं — (1) अल्लाह आपको सवाब दे (2) अल्लाह आपको सजा दे । इसीलिए हम जब भी कहें तो 'जज़ाकअल्लाह ख़ैर' कहना चाहिए ।


जज़ाकअल्लाह का मतलब क्या है ?

जज़ाकअल्लाह खैर का मतलब है — अल्लाह आपको सवाब दे और बेहतर दे । इसीलिए जज़ाकअल्लाह खैर कहना सही तरीका है , जबकि सिर्फ जज़ाकअल्लाह कहना ठीक नहीं है ।


» 'जज़ाकअल्लाहू खैर' कहना हालात के उपर है । जैसा कि मर्दों के लिए "जज़ाकअल्लाहू खैर", और औरतों के लिए 'जज़ाकी अल्लाहू खै़र' और एक से ज्यादा लोगों के लिए 'जज़ाकुम अल्लाहू खै़र' कहना है ।


नोट : जज़ाकअल्लाह खै़र के साथ 'बारकल्लाहू फीक़' भी मिलाना चाहिए । इसका मतलब है — 'अल्लाह तआला की रहमत/बरकत आप पर हो' ।


जज़ाकअल्लाहू खै़रन कहने की अहमियत

» उसामा बिन ज़ैद (रज़ि.) से रिवायत है कि, रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया ; "अगर किसी के साथ कोई नेकी का सुलूक किया गया और उसने नेकी करने वाले से 'जज़ाकअल्लाहू खैरन' कहा , तो उसने उसकी पूरी तारीफ कर दी ।"

Source:
Jamia Tirimizi, Jild 1, 2101-Hasan


» उमर इब्न ख़त्ताब (रज़ि.) ने फरमाया ; "अगर लोगों को 'जज़ाकअल्लाहू खै़रन' कहने का सवाब मालूम हो जाए तो वो एक-दूसरे को ये बहुत ज्यादा कहने लग जाएं !"

Source:
Musannaf Ibn Abi Shaybah,  26519


जज़ाकअल्लाहू खैरन का जवाब कैसे दें ?

» हदीस : एक बार उसैद बिन हैदर (रज़ि.) ने रसूलुल्लाह (ﷺ) से फरमाया — या रसूलुल्लाह (ﷺ) जज़ाकअल्लाहू खैरन ।


तो उनके जवाब में रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया, "व अन्तुम फा जज़ाकुम अल्लाहु खै़रन" (और आपको भी, अल्लाह आपको भी अच्छा सिला अता फरमाए) ।

Source:
Sahih Ibn Hibban, 7436-Hasan


» हदीस : अबू हुरैरा (रज़ि.) से रिवायत है कि रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया ; "वो अल्लाह का शुक्रगुजार नहीं हो सकता जो बन्दों का शुक्रगुजार ना हो ।"

Source:
Sunan Abu Dawood, Vol 3,1383-Sahih


आखिरी बात

उम्मीद है कि आपको 'जज़ाकअल्लाहू खैर का मतलब और इसका जवाब' की ये जानकारी पसन्द आई होगी। इसे शेयर जरूर करें। अच्छी बात को दूसरों तक पहुंचाना भी सदका-ए-ज़ारिया है और इसका सवाब हमेशा मिलता रहेगा। हमें सपोर्ट करने के लिए हमें फॉलो करना न भूलें और अगर आपको ये ब्लॉग अच्छा लगा तो हमारे काम को सपोर्ट करें 😊



💡 Jazak Allahu Khair Ka Meaning Aur Jajakallahu khair ka Jawab in hindi | जज़ाकअल्लाहू खैर का मतलब क्या है? इसका जवाब देने का तरीका हिन्दी में जानिए ❤

Muhammad Saif is the author and Editor of Aazad Hindi News Website.

एक टिप्पणी भेजें

कृप्या स्पैम ना करें। आपके कमेंट्स हमारे द्वारा Review किए जाएंगे । धन्यावाद !