बुरी नजर उतारने की दुआ हिन्दी और उर्दू में Nazar se bachne ki dua Hindi, English

Buri Nazar utarne ka tarika | Nazar se bachne ki dua in Islam & Quran | नजर से बचने की दुआ हिन्दी, उर्दू में

Buri Nazar utarne ki Dua : नज़र लगना एक ऐसी आफ़त है, जिसका जिक्र पुराने ज़माने से ही होता आ रहा है। नज़र और हसद का इलाज यह है कि इंसान को अल्लाह सुभ्हान व तआला के करीब रहना चाहिए और कुरान की तिलावत और जिक्र-ए-इलाही करते रहना चाहिए। ऐसा करने वाला शख्स हर किस्म के नज़र-ए-बद से महफूज़ रहता है।


मगर अफसोस की बात है कि लोग एहतियात नहीं रखते। या रखते भी हैं तो कहीं कोई कमी रह जाती है और किसी की बुरी नज़र का शिकार बन जाते हैं। आज के ज़माने में बच्चों और ख्वातीन को नज़र लगना एक आम बात हो गई है। इस चीज़ से बचने के लिए मैं आपको नज़र लगने/नज़र उतारने की दुआ हिन्दी, उर्दू और अरबी में बताने वाला हूं। लेकिन उससे पहले कुछ बातों को जानना जरूरी है।


बुरी नजर उतारने की दुआ - Nazar se bachne ki dua Hindi

Nazar se bachne ki Dua In Hindi, English & Urdu


➡ नज़र का लगना एक सच्ची बात है और शरीयत से साबित भी है। कुरआन पाक में अल्लाह तआला फरमाता है —


और बेशक, क़ाफ़िर लोग जब क़ुरआन सुनते हैं तो ऐसा लगता है कि वो आपको (अपनी) बुरी नज़रों से नुक़सान पहुंचाना चाहते हैं और कहते हैं कि ये दीवाना है। (सूरह क़लम 51)


नज़र लगने का डर किस पर ज्यादा होता है?

  1. खूबसूरत ख्वातीन

  2. छोटे बच्चे

  3. शादीशुदा नया जोड़ा

  4. किसी का अच्छा कारोबार

  5. घर, गाड़ी, दौलत वगैरह ।


बुरी नज़र एक मनफ़ी ताकत (Negative Energy) होती है जो इंसान को बहुत बीमार कर देती है। उसका कारोबार डूबने लगता है। घरों में झगड़े-फसाद शुरू हो जाते हैं। तरह-तरह की बुरी चीजें उसके साथ होने लगती हैं और वह खुशहाल नहीं रहता। इस पोस्ट में मैं आपको इससे बचने की दुआ बताने जा रहा हूं।


Nazar kyon Lagti hai?

बुरी नज़र किसी को भी लग सकती है। लेकिन बच्चों को और औरतों को ज्यादातर जल्दी ही बुरी नज़र लग जाती है, क्योंकि वो ज्यादा खूबसूरत होते हैं। हर कोई उनकी तरफ़ आकर्षित हो जाता है।


इसीलिए, जब भी किसी खूबसूरत इंसान को देखें तो उसकी तारीफ करने से पहले 'माशाअल्लाह' जरूर कहना चाहिए। 


सिर्फ इंसान ही नहीं बल्कि हर वह चीज़, जो खूबसूरत हो, या लोगों का ध्यान अपनी तरफ खींच रहा हो, उसे देखते ही 'माशाअल्लाह' कहना चाहिए। इस से अनजाने में उसे आपकी बुरी नज़र नहीं लगेगी।


कभी-कभी अनजानें में माँ की नज़र भी बच्चे को लग जाती है, लिहाज़ा अपने बच्चे को देखकर 'माशाअल्लाह' कहा कीजिए।


बुरी नज़र लग जाए तो क्या करें?

जब किसी शख्स को बुरी नज़र लग जाए, तो नज़र के असर को खत्म करने के लिए अलग-अलग तरीके मौजूद हैं। जिनमें से मैं आपको 3 तरीके बताने वाला हूं। ये तरीके बहुत आसान हैं और कोई भी शख्स आसानी के साथ इसे कर सकता है।


पहला तरीका — अगर किसी को बुरी नज़र लग जाए, और मालूम हो जाए की किस शख्स की बुरी नज़र लगी है, तो इसका बेहद आसान उपाय है। इसके लिए नज़र लगाने वाले शख्स को वजू कराया जाये और फिर उस वजू के बचे हुए पानी से नज़र लगने वाले शख्स को गुस्ल कराया जाए।


(इंशाअल्लाह) ऐसा करने से नज़र दूर हो जायेगा। लेकिन इसमें एक मुश्किल है। और वह मुश्किल यह है कि "पता कैसे चलेगा कि किसकी नज़र लगी है?"


जब इस तरह का कोई हालात आ जाए, तो इसके लिए और भी तरीके हैं। प्यारे नबी हज़रत मुहम्मद मुस्तफा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम भी इसी दूसरे तरीके का इस्तेमाल किया करते थे।


🌹 रिवायत : इब्ने अब्बास रज़ियल्लाहु अन्हु से रिवायत है कि प्यारे नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अपने नवासे हज़रत हसन (रज़ि.) और हज़रत हुसैन (रज़ि.) को दम करने के लिए ये दुआ कहते थे, और फरमाते थे कि तुम्हारे दादा इब्राहीम अलैहिस्सलाम भी इस्माईल अलैहिस्सलाम और इस्हाक़ अलैहिस्सलाम के लिए इन्हीं कलिमात के ज़रिए अल्लाह की पनाह मांगा करते थे।


2. दूसरा तरीका — जब किसी को बुरी नज़र लग जाए, तो उसे ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है। इस बुरी नज़र को दूर करने के लिए नीचे लिखी गई इस दुआ को पढ़ कर दम कीजिए। यह दुआ गंदी और बड़ी से बड़ी बुरी नज़र उतारने के लिए एक बेहद मुजर्रब दुआ है, जो कुरान पाक से ली गई है। — (सहीह बुखारी 3371 👇)


Nazar se Bachne Ki Dua in Islam


Nazar se bachne ki dua in Arabic, Urdu

أَعُوذُ بِكَلِمَاتِ اللَّهِ التَّامَّةِ مِنْ كُلِّ شَيْطَانٍ وَهَامَّةٍ وَمِنْ كُلِّ عَيْنٍ لامَّةٍ


Nazar se bachne ki dua ka Urdu Meaning 

⬅  میں اللہ رب العالمین کے مکمل کلمات کے ساتھ پناہ مانگتا ہو شیطان اور زہریلی چیز جو ماردے اور ہر نقصان پہنچانے والی بری نظر سے —



-----------------------


Buri Nazar se bachne ki Dua in English

“A’oozu Bikalimatillahi-Taammati Min Kulli Shaytaanin Wa Haammatin Wamin Kulli ‘Aynin Laammatin.”


Nazar ki dua English Meaning

➡ Main panaah mangta hun Allah ki purey purey kalamat ke jariye, har shaitan se aur har zahreele janwar se aur har nuqsaan pahunchaney waali Nazar-e-Badd se.


-----------------------


Buri Nazar se bachne ki Dua in Hindi

"अवज़ू बि-कलिमातील्- लाहीत्-तामत्ति मीन कुल्ली शैतानीन व हाम्मतीन व-मिन कुल्ली अैनिन लाम्मतिन।"


Nazar ki Dua ka Hindi tarjuma

➡ "मैं पनाह मांगता हुँ अल्लाह की पुरे-पुरे कलिमात के जरिए, हर शैतान से और हर ज़हरीले जानवर से और हर नुकसान पहुँचाने वाली नज़र-ए-बद (बुरी नज़र) से।"


-----------------------


👉 इस दुआ को 11 बार पढ़कर जिसकी नज़र उतारनी हो उसपर दम करें। हालांकि, ऐसा जुम्मे की नमाज के बाद लगतार सात दिनों तक करना चाहिए। लेकिन बच्चा जबतक बुरी नज़र से बेअसर नहीं हो जाए तबतक इसे पढ़ें। इसके लिए पहले वजू बनाना जरूरी है।


👉 नज़र उतारने की इस दुआ को पढ़ने से पहले और आखिर में तीन-तीन मर्तबा दुरूद-ए-पाक जरूर पढ़ें। ऐसा करने पर अल्लाह की मेहरबानी से बुरी नज़र से निजात मिल जाएगी । (इंशाअल्लाह)


3. तीसरा तरीका - अगर किसी को नज़र लग जाए और उपर की दुआ से नज़र नहीं उतर रही हो, तो ऐसी सूरत में इस दुआ को पढ़ें । यह दुआ कुरान पाक की सूरह क़लम की आखिरी आयात 51, 52 में लिखी है।


Nazar se bachne Ki Dua In Quran - Arabic

وَإِن يَكَادُ الَّذِينَ كَفَرُوا لَيُزْلِقُونَكَ بِأَبْصَارِهِمْ لَمَّا سَمِعُوا الذِّكْرَ وَيَقُولُونَ إِنَّهُ لَمَجْنُونٌ  وَمَا هُوَ إِلَّا ذِكْرٌ لِّلْعَالَمِين


Nazar utarne Ki Dua In Quran - English

Wa iny-yakaadul lazeena kafaroo la-yuzliqoonaka biabsaarihim lammaa sami’uz-Zikra wa yaqooloona innahoo lamajnoon Wa maa huwa illaa zikrul lil’aalameen


4. चौथा तरीका - नज़र उतारने के लिए एक आसान तरीका यह भी है, कि सूरह फ़लक और सूरह नास को पढ़ कर दम करना है।


👉 सबसे पहले आप बिस्मिल्लाह पढ़ें। उसके बाद इन दोनों सूरतों को 3-3 बार पढ़ें।  फिर जो शख्स इन सूरतों को पढ़ रहा है वह अपने मुंह के सामने दोनों हाथों को लाये जैसे नमाज़ के लिए दुआ माँग रहा हो, फिर अपने हाथों पर थोड़ा थूक दे, ज्यादा न थूके।


फिर दोनों हाथों को आपस में मलकर जिसको नज़र लगा है उसके मुंह पर हाथ फेर दे। (इंशाअल्लाह इससे भी नज़र उतर जाएगी।)


Nazar Ki Dua Hadees 1: प्यारे नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया, "नज़र का लगना हक़ है।" (सहीह बुखारी 5470)


Nazar Ki Dua Hadees 2: आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने यह भी इरशाद फ़रमाया कि, 'अगर कोई चीज़ तक़दीर पर सबक़त ले जाती है तो वह नज़र ही होती है।" (सहीह मुस्लिम 5726)


Waqia - Jab Ek Sahabi (r.a) Ko Nazar Lag gayi


सैय्यदना अबू उमामा बिन सहल बिन हुनैफ़ रज़ियल्लाहु अन्हु से रिवायत है कि मेरे वालिद सहल बिन हुनैफ़ रज़ियालहु अन्हु ने ग़ुस्ल किया तो आमिर बिन रबीआ रज़ियल्लाहु अन्हु ने उन्हें देख लिया और कहा, "मैंने किसी कुंवारे को भी इतनी ख़ूबसूरत जिल्द वाला नहीं देखा।" इस वाकिये के बाद सहल बिन हुनैफ़ (रज़ि) शदीद बीमार हो गए। जब नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को मालूम हुआ तो आप ने फ़रमाया, "तुम अपने भाइयों को क्यों क़त्ल करना चाहते हो ? तुमने बरकत की दुआ क्यों नहीं की ? बेशक नज़र हक़ है।"


फिर आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने आमिर (रज़ि) को हुक्म दिया कि, "तुम (सहल के लिये) अपने जिस्म को धोओ और उस पानी को इस पर डाल दो।" चुनांचे आमिर ने एक बर्तन में अपना मुंह-हाथ, कुहनियां, घुटने, दोनों पावं की उँगलियां, और नाफ़ (नाभी) के नीचे के सारे जिस्म को धोया और फिर उस पानी को सहल (रज़ि) पर डाला गया। इसका असर हुआ और वो फ़ौरन अच्छे हो गए और उठकर लोगों के साथ इस तरह चल पड़े, जैसे उनको कुछ हुआ ही नहीं था। (मुवत्ता इमाम मालिक)


Nazre Bad Ka ilaj ka Tarika | बुरी नज़र से बचने का तरीका


तरीका 1: इस आर्टिकल में मैंने आपको जो दुआ बताई है, वो हदीस से ली गई है। आप वो दुआ पढ़कर नज़र का इलाज कर सकते हैं।


तरीका 2: अगर नज़र लगाने वाले का मालूम हो जाए, तो उसे वज़ू करने और अपनी कमर से निचे वाले सभी हिस्सों को धोने का हुक्म दिया जाए, और जो पानी उसके जिस्म को छू कर गिरे उस पानी को एक बर्तन में जमा करके जिसे नज़र लगी हो उसके सर पर पिछली तरफ़ से सारे जिस्म पर बहाया जाए। इंशाअल्लाह, अल्लाह तआला के हुक्म से बुरी नज़र का असर ख़त्म हो जाएगा।


तरीका 3: कुरान पाक के ज़रीए इलाज किया जाए, क्योंकि अल्लाह तआला का फरमान है, "क़ुरआन में शिफ़ा है।"

अब्दुल्लाह बिन मसूद (रज़ि.) से एक हदीस में ज़िक्र है, "तुम लोग शिफ़ा देने वाली दो चीज़ों को अपना लो, क़ुरआन करीम और शहद।"


तरीका 4: जायज़ तरीक़े से दम करके इलाज किया जाए। प्यारे नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने नज़र लगने वाले पर दम करने की तालीम दी है।

हज़रत आइशा रज़ियल्लाहु अन्हा फ़रमाती है कि नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने मुझे हुक्म फ़रमाया, "नज़र लगने की सूरत में दम करवाया जाए।" (सहीह बुखारी 5738)


आखिरी बात

इस आर्टिकल में मैंने आपको बहुत ही विस्तार से 'नज़र उतारने की दुआ' या 'Nazar se bachne ki dua' के बारे में बताया है। मुझे उम्मीद है कि आपको यह मालूमात पसंद आई होगी। अगर आप का इस विषय पर कोई भी सवाल है, तो हमें कमेंट के जरिए जरूर पूछें, साथ ही साथ आपको यह पोस्ट कैसा लगा, इस बारे में अपनी राय भी हमें दें। हमें आपके सवालों/राय का इंतजार रहेगा। मैं आपसे फिर मिलू्ंगा, किसी नए आर्टिकल में, तबतक के लिए….. 😊 फ़ी अमानिल्लाह ! ❤


नोट : अगर आपके बहुत कोशिश करने के बाद भी नज़र का असर खत्म नहीं होता है, तो बेहतर है कि आप किसी जानकार आलिम या मुफ्ती के पास जाएं और उनसे इलाज करवाएं। AazadHindi.com में अपना वक्त देने के लिए शुक्रिया 😇 !!!

Muhammad Saif is the author and Editor of Aazad Hindi News Website.

एक टिप्पणी भेजें

कृप्या स्पैम ना करें। आपके कमेंट्स हमारे द्वारा Review किए जाएंगे । धन्यावाद !